ग्रीन टी बनाते समय इन बातों का रखें ध्यान

लगभग 15 दिनों के अंतराल पर श्रीनगर में लगभग 200 स्कूलों को खोल दिया गया, लेकिन इस दौरान स्कूलों में कुछ ही विद्यार्थी नजर आए। अधिकांश स्कूलों में शिक्षक मौजूद थे, लेकिन आशंकित माता-पिता ने अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजा। बटमालू के महाराजपुरा निवासी अब्दुल अजीज ने कहा, “मैं अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेज सकता। अभी परिस्थितियां सही नहीं हैं और मैं जोखिम नहीं उठा सकता।”

केंद्रीय विद्यालयों और बेमिना में पुलिस पब्लिक स्कूल को छोड़कर, शहर के अन्य स्कूलों में विद्यार्थियों की उपस्थिति नगण्य रही। सरकार ने कहा कि लोगों की सुविधा के लिए आवाजाही पर प्रतिबंधों में ढील दी गई है।

जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को केंद्र सरकार द्वारा पांच अगस्त को निष्प्रभावी किए जाने के बाद, स्थानीय प्रशासन ने स्कूलों को फिर से खोलने की रविवार को घोषणा की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *