सीरिया में फिर आमने-सामने ईरान और इजराइल, बढेगा तनाव!

रूस के सीरिया में एक उन्नत एंटी-मिसाइल सिस्टम एस-300 देने की घोषणा के बाद इसरायली प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि वह सीरिया में ईरान के ठिकानों पर हमला करके ही रहेगा.

नेतन्याहू ने कहा, ‘पिछले तीन सालों में सीरिया में ईरान के सैन्य निर्माण को रोकने के साथ-साथ लेबनान में हिज़बुल्लाह को घातक हथियारों को देने के प्रयासों में इज़राइल बहुत सफल रहा है.’

उन्होंने न्यूयॉर्क में UN असेंबली के लिए प्रस्थान करने से पहले यह बात कही. जहां वह आम सभा के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से मिलने की योजना बना रहे थे.

एस-300 के संबंध में रूसी योजनाएं, जिसे अमेरिका भी विरोध करता है, उस वार्तालाप का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा. जानकारी के मुताबिक, इज़राइल को डर है कि एस-300, आईडीएफ के लिए ईरानी लक्ष्यों के खिलाफ हवाई हमलों को निष्पादित करना अधिक कठिन बना देगा.

17 सितंबर को सीरिया में रूसी युद्ध के विमान को मार गिराने के बाद रूस ने एस-300 मिसाइल सिस्टम सीरिया सेना को देने का एलान किया. जिसमें 15 रूसी फौजी मारे गये थे. रूस ने इज़राइल को दोषी ठहराया है, जबकि इजरायल ने सीरिया और ईरान पर विमान को कम करने का आरोप लगाया है.

नेतन्याहू और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सोमवार की रात को टेलीफोन से बात की और सीरिया में उनके सुरक्षा समन्वय को जारी रखने पर सहमत हुए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पूर्ण खबरें