असम में चल रहे विरोध प्रदर्शनों के कारण भारत और जापान के बीच होने वाली शिखर वार्ता पर संशय

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून 2019 को लेकर असम में चल रहे विरोध प्रदर्शनों के कारण भारत और जापान के बीच होने वाली शिखर वार्ता पर संशय के बादल बरकरार है |

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच गुवाहाटी में 15-17 दिसम्बर के बीच होने वाली शिखर मुलाकात की तैयारियां भले चल रही हों लेकिन भारत सरकार ने आधिकारिक तौर पर इसका ऐलान अभी तक नहीं किया है |

भारत और जापान के बीच 15-17 दिसम्बर के बीच शिखर वार्ता का बीते सप्ताह ऐलान कर चुके विदेश मंत्रालय प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को इस बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया | गुवाहाटी में दोनों नेताओं की मुलाकात के बारे में एबीपी न्यूज़ के सवाल पर उन्होंने कहा कि मंत्रालय इस बारे में अभी कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं हैं | जब इस बारे में स्पष्टता जो जाएगी तो उसे जाहिर कर दिया जाएगा | यहां तक कि रवीश कुमार शिखर वार्ता की पूर्व घोषित तारीखों को दोहराने से भी बचते नजर आए |

सरकारी सूत्रों के मुताबिक गुवाहाटी में कानून व्यवस्था की स्थिति सुधारने की कोशिशों के साथ ही भारत-जापान शिखर बैठक के आयोजन की तैयारियां भी अभी तक चल रही हैं | हालांकि इस बारे में अंतिम निर्णय सुरक्षा हालात को ध्यान में रखकर ही लिया जाएगा |

प्रस्तावित योजना के मुताबिक जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 15-17 दिसम्बर तक भारत के आधिकारिक दौरे होंगे | दोनों नेताओं के बीच 16 दिसम्बर को गुवाहाटी में आधिकारिक वार्ता का कार्यक्रम बनाया गया था | तैयारियों की कड़ी में पीएमओ समेत विभिन्न मंत्रालयों के अधिकारियों की टीम भी गुवाहाटी में हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पूर्ण खबरें